साहूकारों से किसानों द्वारा लिया गया कर्जा भी माफ करेंगे कमलनाथ?

कर्ज माफ़ी की योजना का नाम बदला, 55 लाख किसानों को होगा फायदा

7,424

भोपाल। मध्य प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी योजना मंगलवार से शुरू हो गयी।  भोपाल में सीएम कमलनाथ ने किसानों का कर्ज माफ करने की इस योजना की शुरुआत की।  योजना का नाम बदलकर “जय किसान ऋण मुक्ति योजना” कर दिया गया है।  मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंगलवार को यह भी कहा कि उनकी सरकार बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती की उस चिंता पर भी विचार करेगी, जिसमें उन्होंने कांग्रेसनीत मध्य प्रदेश सरकार से सेठ साहूकारों से किसानों द्वारा लिये गये कर्ज माफ करने के लिए बेहतर नीति बनाने की मांग की है।

प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के कुछ घंटे के भीतर ही कमलनाथ ने किसानों का दो लाख का कर्जा माफ करने की फाइल पर हस्ताक्षर कर दिए थे। जिसके तहत किसानों की कर्जमाफी योजना आज से शुरू हो गयी थी।  राजधानी में सीएम कमलनाथ ने किसानों का कर्ज माफ करने की इस योजना की शुरुआत की इस दौरान कार्यक्रम में किसानों से कर्जमाफी के फार्म भरवाए गए। इस मौके पर जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने बताया कि प्रदेश में 55 लाख किसानों को इस योजना का लाभ मिलेगा। सभी किसानों का दो लाख तक का कर्जा माफ किया जाएगा। वहीं 22 फरवरी से किसानों के खाते में राशि पहुंचना शुरू हो जाएगी।

योजना का नाम बदला

सीएम कमलनाथ ने कर्ज माफी योजना का नाम बदलकर जय किसान ऋण मुक्ति योजना कर दिया गया है. कमलनाथ ने कहा कि इस योजना से प्रदेश के 50 लाख से ज्यादा किसानों को फायदा होगा। किसानों का 50 हज़ार करोड़ रुपए का कर्ज माफ होगा। उन्होंने कहा कि ये ऋण मुक्ति किसानों के लिए कोई उपहार नहीं, बल्कि एक मील का पत्थर है। एक इन्वेस्टमेंट है भविष्य के लिए। उन्होंने कहा कि अगले महीने प्रदेश को एक सरप्राइज मिलेगा, जिसमें बताऊंगा कि प्रदेश में कितना इन्वेस्टमेंट आएगा।