मंदसौर रेप केस: इरफान और आसिफ को फांसी की सजा, कोर्ट ने 56 दिन में सुनाया फैसला

3

मध्य प्रदेश के मंदसौर में 7 साल की बच्ची के रेप के मामले में फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट ने दोनों आरोपियों को दोषी करार दिया है। अदालत ने दोनों ही आरोपियों इरफान और आसिफ को इस मामले में मौत की सजा सुनाई है। मामला 26 जून का है जब इरफान और आसिफ नाम के दो लोगों ने स्कूल से बच्ची का अपहरण कर उसके साथ बलात्कार किया था और उसकी हत्या की कोशिश भी की थी। कोर्ट ने इस मामले में मात्र 56 दिनों में ट्रायल पूरा कर आरोपियों की सजा सुनाई है।

यह था घटनाक्रम

घटना इस प्रकार से है कि दिनांक 26 जून 18 को स्कूल में पढ़ने वाली 7 साल की बालिका को जब उसकी दादी स्कूल समय समाप्त होने के बाद लेने पहुंची तो पाया कि बालिका स्कूल समाप्त होने के बाद वहां से जा चुकी है।  दादी द्वारा घर पर तलाशने पर परिवार के अन्य सदस्यों द्वारा बालिका के घर में न पहुंचने पर परिवार के सदस्यों ने बालिकाओं की दादी के साथ जाकर थाना शहर कोतवाली पर बालिका के लापता होने की गुमशुदगी रिपोर्ट दर्ज कराई।  बच्ची दिनांक 27 जून 18 को दोपहर घायल अवस्था में लक्ष्मण दरवाजे मंदसौर पर एक लड़के को मिली। पुलिस को तत्काल हॉस्पिटल लेकर पहुंची बालिका के साथ बलात्कार होने व गंभीर चोट के निशान पाए गए गंभीर होने से उसे इंदौर रेफर किया गया।  थाना शहर कोतवाली मंदसौर में 327 /2018 धारा 363 ,366(2) एम्, 376 ए बी ,3०7,376 डी बी भा द वि ,व 5 एल/6,5-आर6,5-एम /6 पास्को का अपराध दर्ज किया गया था। विवेचना के दौरान 28 जून  को भैया उर्फ इरफान पिता जाहिद उर्फ जाहिर उर्फ़ कालू मेवाती 20 साल निवासी मंदसौर को गिरफ्तार किया गया। इरफान के बयान के आधार पर एक अन्य आरोपी आसिफ पिता जुल्फिकार मेवाती 24 साल निवासी मंदसौर को 29-6-18 को गिरफ्तार किया गया मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार द्वारा विशेष टीम का गठन किया गया था।

कोर्ट ने 56 दिन में सुनाया फैसला

प्रकरण की मुख्य बात यह है कि कोर्ट ने 56 दिन में अपना फैसला सुना दिया। अभियोजन साक्ष्य दिनांक 30 जुलाई को प्रारंभ हुआ तो दिनांक 8 अगस्त  तक पूर्ण हुआ।  उनके द्वारा मात्र 8 दिवस में कुल 37 गवाह कराए गए साथ ही अभियोजन ने अपने प्रकरण के समर्थन में 195 दस्तावेज तथा 50 आर्टिकल प्रदर्शित करवाएं 14 अगस्त 2018 को बहस पूर्ण हुई और दिनांक 21 अगस्त 2018 को निर्णय हेतु प्रकरण निर्धारित किया गया। विशेष न्यायालय A DJ (2) श्रीमती निशा गुप्ता मंदसौर के द्वारा आज दिनांक को आरोपीगण भैया उर्फ़ इरफान पिता जाहिद उर्फ जाहिर उर्फ कालू मेवाती 20 साल निवासी चंदन गली मदारपुरा मंदसौर और आसिफ पिता जुल्फिकार मेवाती 24 साल निवासी मदारपुरा मंदसौर को सभी धाराओं में दोषसिद्धि पाया गया। दोनों अभियुक्तों  को धारा 363  भादवी में 7 साल कारावास 10 हज़ार का जुर्माना, धारा 366 भादवी में 10 साल कारावास व 10 हज़ार जुर्माना ,धारा 307 भादवि में आजीवन कारावास व 10 हज़ार जुर्माना ,धारा 376( db ) भा द वि में फांसी के दंड से दंडित किया गया।