उज्जैन: शिप्रा में शनिश्चरी अमावस्या पर श्रद्धालुओं को कीचड़ स्नान करवाने पर कलेक्टर और संभागायुक्त नपे

44

भोपाल। उज्जैन में शनिश्चरी अमावस्या में स्नान की अव्यवस्थाओं पर मुख्यमंत्री कमल नाथ ने  सख्त रवैया अपनाया है। मुख्य सचिव एस आर मोहंती के प्रतिवेदन पर उज्जैन के संभागायुक्त एम बी ओझा और कलेक्टर मनीष सिंह को हटा दिया गया है। उनके स्थान पर संभागायुक्त  अजीत कुमार और शशांक मिश्रा को उज्जैन का कलेक्टर बनाया गया है।

उल्लेखनीय है की 6 जनवरी को शनिश्चरी अमावस्या पर महाकाल की नगरी उज्जैन में क्षिप्रा नदी के सूखने व और कीचड युक्त पानी से श्रद्धालुओं को स्नान में भारी परेशानी आई थी। बाद में फव्वारे लगा कर स्नान करवाया गया। इन सब लापरवाहियों को मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने बेहद गंभीरता से लिया था। उन्होंने सीएस को इस पूरे मामले की जाँच के निर्देश दिए थे।

बीजेपी को कोई मौका नहीं देना चाहते कमलनाथ

मामला वन्दे मातरम का हो या उज्जैन में स्नान में आई बाधा का लगता है कमलनाथ बीजेपी को विरोध का कोई मौका नहीं देना चाहते। इधर कई अधिकारी पुरानी चल रही परिपाटी को बदल कर अपने नंबर बढ़ने की जुगत में थे उन्हें भी इस प्रकरण ने सबक मिलेगा।